आप कैसे बन सकते है “धनवान”

लक्ष्य

Spread the love

Last Updated on

हम सब  धनवान बनना चाहते है | इस दुनिया मे शायद ही कोई येसा होगा जो गरीब बनकर जीना चाहता होगा | इसके बावजूद इस दुनिया की अधिकांश आबादी गरीबी मे जीते है | ऐसा नहीं है कि लोग सुख सुविधा पैसे, धन दोलत एसो आराम के पीछे नहीं भागते, मगर जितना  वे इस सब पर भागते हैं, पैसा धन दोलत उतना ही दूर भागता रहता है | क्या कारण है कि अधिकांश के पकड़ मे पैसा और धन दोलत,  कभी नहीं आता ? सर्व प्रथम हमें यह समझना होगा कि जीवन मे विकास लाने पर ही धनवान बन सकते है | केवल पैसा ही हमे धनवान नहीं बना सकता | हम धन –धान्य से , विध्या से , घर- परिवार से , समाज से और   बुद्धि से भी समृद्ध रहें  | तभी  हमारा जीवन सही मायने मे धनवान  कहा जायेगा |

  1. सोच बदले :

         आज के भाग-दौड़  भरी  जिंदजी मे हमारी सोच दिन-प्रतिदिन बदलता जा रहा है | हमें शिकायत कि भावना से दूर रहने कि आवश्यता है | हमारे मन मे किसी दूसरे के प्रति शिकायत, घृणा जैसे भावना नहीं रखनी होगी, इससे हमारा मन को शिकायत के घेरे मे रखता है |  जिससे मेरा सोच नागेटिव कि और लेजाता है | हमें हमेसा पोजेटिव सोच रखना है जिससे हमारी कार्य शेली, पढ़ाई , व्यापार के क्षेत्र मे आगे आने मे मदद मिले  |   हम पहले सोचते है फिर कुछ करते है | जैसे हमारी सोच होगी हम जीवन मे कुछ वैसा ही करेंगे | हमारी सोच ऊंची होगी तो हम ऊंचे मुकाम पर पहुंचेगे यदि हमारी सोच छोन और साधारण है तो हमारी उपलब्धि भी छोटा और साधारण होगा | इसलिए सोच के महत्व को समझते हुये हमारी यह कोशिश होनी चाहिए की हम अपनी सोच को और बेहतर बनाने का लगातार प्रत्नशील रहेंगे |

        2. विजन :  यूं समझ ले कि जीवन के हरेक क्षेत्र मे सफलता पाने के लिए सही विजन का होना अनिवार्य है | आज की बदलती हुई दुनिया मे हर तरफ इतनी तेजी से बदलाव हो रहा है कि जिनके पास सही विजन नहीं है, वे लगातार भटकते रहते है |  सिर्फ बड़ी सफलता हासिल करने की अभिलाषा को ही विजन नहीं कहा जा सकता | बड़ी सफलता पाने लिए विजन का  होना जरूरी है |  :

3 मार्ग-दर्शन :

          हमारे जीवन मे सही मार्ग-दर्शन उन्नति के अनगिनत मार्ग खोल देता है | इसलिए यह जरूरी है कि जीवन के हर क्षेत्र, हर कदम, चाहे पढ़ाई, या बिजनेस का क्षेत्र क्यो न हो हम मार्ग दर्शन कि बिना आगे नहीं जा सकते | इसलिए सही मार्ग-दर्शन का चुनाव करें | जीवन मेन सही दिशा दिखाने वाला आदमी केवल भाग्यशाली लोगो को ही मिलता है हम जो गलती करते या ठोकर खाकर सीखते है, वही मार्ग-दर्शक अपने अनुभव के आधार पर हमें सीखाता है| वह आनेवाले  चुनौती से पहले हमें बचाता है उचित और अनुचित क्या है क्या करना है | आज के समाय आप मार्ग- दर्शक के रूप मे इंटरनेट, अच्छी किताबें या आपके मार्ग-दर्शक से प्राप्त करें | मनुष्य का उन्नति में मार्गदर्शक का बड़ा योगदान है | अगर आपने अभी तक अपने कार्य क्षेत्र मे उन्नति पाने केलिए मार्गदर्शक को नहीं चुना है तो ज्यादा इंतजार न करके मार्ग दर्शक का चुनाव करें |

   4 शिकायत :   लोग अपने जीवन की सभी चीजों के प्रति शिकायत रकता है | हम जितना दूसरों से शिकायत रखेंगे उतान हम अपना नुक्सान करेंगे | हम जिस क्षेत्र मे कार्य कर रहें है अगर उस क्षेत्र से सबन्धित कोई और भी कार्य कर रहा है तो उस समय उस पर शिकायत न करे क्योकि इससे मन की शांति खो देंगे | स्वीकृति का भाव हमारे जीवन में चमत्कार लाता है क्योंकि यह हमारी सोच को बनाता है | जब हम दूसरों को स्वीकारना सीख लेते है तो उन्हे सही ढंग से समझ पाते है और अपने रिश्तों को बेहतर बनाने मे सफल हो पाते है| इसलिए शिकायतपूर्ण दृष्टि रखने के बजाय हमें स्वीकृति का भाव रखना चाहिये |

   5. प्रार्थना : कोई भी कार्य करने से पहले हमें प्रार्थना करनी चाहिए जिससे आपके भीतर कार्य करने और आपका मनोबल को बढ़ाए रखने में मदद करेगा | जो लोग नियमित रूप से प्रार्थना करते है, उनमें संघर्ष करने की अद्भुत क्षमता होती है  | वे हालत के सामने हर नहीं मानते है, क्योकि प्रार्थना करने से अपने जीवन में शक्ति प्रदान होती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *